Rone wali shayari in Hndi

 Rone wali shayari in Hindi

Rone de tu aaj hamko, ansuo se bhig jane de,
baho me le le mujhko sabkuchh bhool jane de, 
hai jo seene quaid dariya wo chhot jayega,
hai itna dard ki tera daman bhig jayega

Ab to rone par bhi tumhe pata nahi chalega kyo ki,
khamosi se ansuo ke ghunt pina shikh liya hai hamne...

अब तो रोने पर भी तुम्हे पता नहीं चलेगा क्यों की खामोशी से आंसुओं के घूंट पीना सीख लिया है हमने...

Zid Mat Kiya Karo Meri Daastaan SunNe Ki,
Main Hans Kar Bhi Kahunga Toh Tum Rone Lagoge.
ज़िद मत किया करो मेरी दास्तान सुनने की,
मैं हँस कर भी कहूँगा तो तुम रोने लगोगे।

Raah-e-Wafa Mein Hum Ko Khushi Ki Talaash Thi,
Do Kadam Hi Chale The Ki Har Kadam Pe Ro Pade.
राह-ए-वफ़ा में हम को ख़ुशी की तलाश थी,
दो कदम ही चले थे कि हर कदम पे रो पड़े।

 ये दिल तब रो देता हैं,
जब इश्क़ में सब खो देता हैं.

रोने से दिल के जख्म भर जायेंगे,
वरना हम तो जीते जी मर जायेंगे.

अब कहाँ ये दिल चैन से सोता है,
तुझे याद करके ये रात भर रोता है.

मेरे नसीब में सिर्फ रोना है,
फिर भी तुझे प्यार करते हैं,
पता है तू अब लौट कर नहीं आएगा
फिर भी तेरा इन्तजार करते हैं.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ