DMCA.com Protection Status Sad Khamosh Shayari In Hindi - khamoshi Shayari

Ticker

6/recent/ticker-posts

Sad Khamosh Shayari In Hindi - khamoshi Shayari

 Sad Khamosh Shayari In Hindi -  khamoshi Shayari 

Khamosh Mohabbat Ka Ehsas Hai Wo 

Meri Khawaish Mere Jazbaat Hai Wo 

Aksar Te Khyal Kyon Aata Hai Dil Mein 

Meri Pahli Aur Aakhiri Talash Hai Wo

खामोश मोहब्बत का एहसास है वो,

मेरे ख्वाहिश मेरे जज़्बात है वो,

अक्सर ये ख्याल क्यूँ आता है दिल में,

मेरी पहली और आखिरी तलाश है वो। 


Ishq Ki Rahon Mein Jis Dil Ne Shor Macha Rakha Hai 

Bewafai Ki Galiyon Se Aaj Wo Khamosh Nikala 

इश्क की राहों में जिस दिल ने शोर मचा रखा था,

बेवफाई की गलियों से आज वो खामोश निकला.  

Khamosh Shayari In Hindi

Badi Khamoshi Se Gujar Jaate Hain 

Hum Ek dusre Ke kareeb Se 

Fir Bhi Dilon Ka Shor Sunai De Hi Jata Hai

बड़ी ख़ामोशी से गुज़र जाते हैं 

हम एक दूसरे के करीब से 

फिर भी दिलों का शोर सुनाई दे ही जाता है..


Meri Khamoshi Thi Jo Sab Kuchh Seh Gayi 

Uski Yadein Hi Ab Is Dil Mein Reh Gayi 

Thi Shayad Uski Bhi Koi Majburi 

Jo Meri Jindagi Ki Kahani Adhuri Hi Rah Gayi

मेरी खामोशी थी जो सब कुछ सह गयी,

उसकी यादें ही अब इस दिल में रह गयी,

थी शायद उसकी भी कोई मज़बूरी,

जो मेरी जिंदगी की कहानी अधूरी ही रह गयी

Khamosh Shayari 2 Lines

Tadap Rahe Hai Ham

tumse Ek Alfaaz Ke Liye,

tod Do Khamoshi Hame

zinda Rakhne Ke Liye.

तड़प रहे हैं हम 

तुमसे एक अल्फाज़ के लिए 

तोड़ दो खामोशी हमें 

जिंदा रखने के लिए


Chubhata to bahut kuchh hain Mujhe bhee teer kee tarah,

Lekin khaamosh rahata hoon Teree tasveer kee tarah.

चुभता तो बहुत कुछ है मुझे भी तीर की तरह 

लेकिन खामोश रहता हूं तेरी तस्वीर की तरह

Khamosh Sad Shayari

Khamosh ko ikhtiyar kar lena,

Apane dil ko thoda bekarar kar lena,

Jindagi ka asali dard lena ho to

Bas kisi se bepanah pyaar kar lena.

खामोशी को इखतियार कर लेना 

अपने दिल को थोड़ा बेकरार कर लेना 

जिंदगी का असली दर्द लेना हो तो 

बस किसी से बेपनाह प्यार कर लेना


Jab khamosh ankhon se baat hoti hai, 

to aise hi mohabbat ki shuruat hoti hai,

tere hi khyalon mein khoye rahate hain, 

na jane kab din aur kab raat hoti hai…!

जब खामोश आंखो से बात होती है 

तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है 

तेरे ही ख्यालों में खोए रहते हैं 

ना जाने कब दिन और कब रात होती है

Khamosh Love Shayari

Khvaish to yahi hai ki teri banhon mein panah mil jaye, 

shama khamosh ho jaye aur sham dhal jaye, 

mohabbat too itana kare ki itihas ban jaye, 

aur teri banhon se hatane se pahale ye shaam ho jaye..

ख्वाहिश तो यही है कि तेरी बाहों में पनाह मिल जाए 

शमा खामोश हो जाए और शाम ढल जाए 

मोहब्बत तो इतना करें कि इतिहास बन जाए 

और तेरी बाहों से हटने से पहले ये शाम हो जाए


Khamosh Baithe Hai To Log Kahate Hain Udasi Acchi Nahin 

Aur Jara Saa Hans Le To Log Muskurane Ki Wajah Puchh Lete Hain

खामोश बैठे हैं तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,

और ज़रा सा हंस लें तो लोग मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं…!

Khamosh Ki Shayari

Dekh Raha Hoon, Seh Bhi Raha Hoon, 

Aur Khamosh Bhi Hoon, Kyun Ke Waqt Abhi Aaya Nahi Mera.

देख रहा हूं सह भी रहा हूं 

और खामोश भी हूं क्योंकि वक्त अभी आया नहीं मेरा



Dil Chahta Hai Tumse Pyari Si Baat Ho,

Khamosh Taraane Ho, Lambi Si Raat Ho,

Phir Unse Raat Bhar Yahi Meri Baat Ho,

Tum Meri Zindagi Ho Tum Hi Meri Kayanat Ho

दिल चाहता है तुमसे प्यारी सी बात हो 

खमोश तराने हो लंबी सी रात हो 

फिर उनसे रात भर यही मेरी बात हो 

तुम मेरी जिंदगी हो तुम ही मेरी कायनाथ हो

Khamosh Rehne Ki Shayari

Koi To Ho Jo Ghabraye Meri Khamoshi Se 

Kisi Ko To Samajh Aaye Mere Lahje Ka Dukh...

कोई तो हो जो घबराए मेरी खामोशी से,

किसी को तो समझ आए मेरे लहज़े का दुःख...


Khaliyo Seesha Mein Nishan Reh Jala 

Tutal Dil Mein Bhi Armaan Raha Jala 

Jawal Khamoshi Se Gujar Jala 

U Dariya Bhi Aapn Dil Mein Tufan Rakhela

खालीयो शिशा मे निशान रह जाला

टूटल दिल मे भी अरमान रह जाला

जवन खामोशी से गुजर जाला

उ दरिय़ा भी आपन दिल मे तूफान राखेला !!

Me Khamosh Hu Shayari

Netaon Ki Chikh Mein Khamoshi Ka Madhur Raag Hai

Loktantra Mein ungali Per Yeh Sabse Swachh Daag hai

नेताओं की चीख में खामोशी का मधुर राग है

लोकतंत्र में उंगली पर ये सबसे स्वच्छ दाग है।।


December Jab Se Aaya Hai Mere Khamosh Kamre Mein 

Mere Bistar Pe Bikhari Sab Kitabe bheeg Jaati Hai

दिसम्बर जब से आया है मेरे खामोश कमरे में,

मेरे बिस्तर पे बिखरी सब किताबें भीग जाती हैं !!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ