DMCA.com Protection Status वक्त शायरी | waqt shayari in hindi

Ticker

6/recent/ticker-posts

वक्त शायरी | waqt shayari in hindi

 वक्त शायरी | waqt shayari in hindi

तुम्हारी सबसे बड़ी दौलत तुम्हारा वक़्त है ,

जिसे भी दे रहे हो बड़ी सोचकर देना – ये लौटता नहीं है ,

_______________________________________________

सब एक नज़र फेंक के बढ़ जाते हैं आगे,

मैं वक़्त के शो-केस में चुप-चाप खड़ा हूँ।।

_______________________________________________

हर वक़्त दिल को जो सताए ऐसी कमी है तू,

मैं भी ना जानू की इतनी क्यूँ लाज़मी है तू।।

_______________________________________________

जिन किताबों पे सलीक़े से जमी वक़्त की गर्द,

उन किताबों ही में यादों के ख़ज़ाने निकले।।

_______________________________________________

कुछ इस कदर खोये हैं तेरे ख्यालो में,

कोई वक़्त भी पुछता है तो तेरा नाम बता देते हैं।।

_______________________________________________

कौन डूबेगा किसे पार उतरना है ‘ज़फ़र’

 फ़ैसला वक़्त के दरिया में उतर कर होगा।।

_______________________________________________

तुम्हें क्या पता तेरे इंतजार में,

हमने कैसे वक्त गुजारा है,

एक बार नही हजारों बार,

तेरी तस्वीर को निहारा है.!


Tumhen kya pata tere intajaar mein,

Hamane kaise vakt gujaara hai,

Ek baar nahee hajaaron baar,

Teree tasveer ko nihaara hai.!

_______________________________________________

कैसे कहूं कि इस दिल के लिए,

कितने खास हो तुम..!

फासले तो कदमों के हैं पर,

हर वक्त दिल के पास हो तुम..!!


Kaise kahoon ki is dil ke lie,

Kitane khaas ho tum..!

Phaasale to kadamon ke hain par,

Har vakt dil ke paas ho tum..!!

_______________________________________________

जरा सा बड़ा क्या हो गया,

नींद बस घड़ी के अलार्म पर टिक गई !!

जाने कहाँ जाके सिमट गया वो वक्त,

जब नींद भी अपनी चाहत से खुलती थी !!


Jara sa bada kya ho gaya,

Neend bas ghadee ke alarm par tik gaee !!

Jaane kahaan jaake simat gaya vo Waqt,

Jab neend bhee apanee chaahat se khulatee thee !!

_______________________________________________

Hamare haal par hasne wale shok se hase,

 hamari Rah napna asan nahi |

_______________________________________________

logo ka waqt aata hai yaad rakh lena, 

apna dor aayga ham khud laynge aap log dekh lena…

_______________________________________________

Main kadam kadam badalta hu yahi,

waqt hu janab, ek sa rehna mera kaam nahi

_______________________________________________

Waqt ke sath waqt se hi lad rahe

waqt ke hi khel me waqt se aage nikal rahe


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ