DMCA.com Protection Status dard bhari shayari in Hindi | दर्द भरी शायरी हिंदी

Ticker

6/recent/ticker-posts

dard bhari shayari in Hindi | दर्द भरी शायरी हिंदी

dard bhari shayari in Hindi | दर्द भरी शायरी हिंदी

dard bhari shayari in Hindi | दर्द भरी शायरी हिंदी

मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नहीं।।
_______________________________________________

खुदगर्ज़ बना देती है शिद्दत की तलब भी...
प्यासे को कोई दूसरा प्यासा नहीं लगता...!!
_______________________________________________

वो क्या जाने, यादों की कीमत,
जो ख़ुद यादों को मिटा दिया करते हैं,
_______________________________________________

यादो का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं।😢
_______________________________________________

इक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं,
इक में हूँ जिसे और कुछ याद नहीं,
_______________________________________________

ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं,
इक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं।🥰
_______________________________________________

एक तो ये रात, उफ़ ये बरसात,
इक तो साथ नही तेरा,
_______________________________________________

 उफ़ ये दर्द बेहिसाब
कितनी अजीब सी है बात,
मेरे ही बस में नही मेरे ये हालात।🌧
_______________________________________________

इक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं,
इक में हूँ जिसे और कुछ याद नहीं
ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं,
इक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं।🥰
_______________________________________________

मैं आदत उसकी ... वो जरूरत मेरी ..
मैं ख्वाब हूं उसका और वो हकीक़त है मेरी _______________________________________________

किताबें भी पढ़ने का शौक़ नहीं था हमें,
और इस इश्क़ ने आँखें पढ़ना सिखा दिया..
_______________________________________________

तुम दिल से हमें यों पुकारा ना करो,
यु तुम हमें इशारा ना करो,
दूर हैं तुमसे ये मजबूरी है हमारी,
तुम तन्हाइयों में यूं तड़पाया ना करो…...!!!
_______________________________________________

दो लफ्ज़ तुम्हें सुनाने के लिए....!
मैंने हजारों लफ्ज़ लिखे जमाने के लिए।
_______________________________________________

इश्क़ तो मेरा..
महफूज़ है तुझमें..!
ज़िस्म अलग है पर..
रूह है तुझमें..!!
_______________________________________________

यादें और शमां भरी हैं..
बस इस दिल में..!
बस तू है, तू है...
और..सिर्फ तू है मुझमे..!!
_______________________________________________

अगर सच में किसी का साथ ज़िन्दगी भर चाहते हो तो,
कभी मत बताओ की उससे कितना प्यार करते हो…!!
_______________________________________________

कभी जो प्यास लगे मेरे घर चले आना…
इश्क़ दरिया सा बहता है यहां शायरी छलकती है...
_______________________________________________

सुनो...
कागज़ी इक़रारनामे के क़ायल नहीं है हम,
मगर चाहो तो होंठो पे दस्तख़त ले लो तुम..!
_______________________________________________

आ मत जाना अब 
अब हम संभल गये हैं।
यूँ बिखरने का हौंसला
बार-बार नहीं होता।
_______________________________________________

मैं अपने आप में मिलनें को तरस जाऊं,
मेरे वजूद में इतना भी मत समाया कर.......!!
_______________________________________________

"दिल की धड़कन और मेरी सदा है तू,
मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है तू,
चाहा है तुझे चाहत से भी बढ़ कर,
मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है तू।"
_______________________________________________

प्यास दरिया की निगाहों से छुपा रक्खी है,
एक बादल से बड़ी आस लगा रक्खी है...!
तेरी आँखों की कशिश कैसे तुझे समझाऊँ,
इन चिरागों ने मेरी नींद उड़ा रक्खी है...!!
_______________________________________________

यादें उनकी ही आती है, जिनसे कोई ताल्लुक हो ....
हर शख्श मौहब्बत की, नज़र से देखा नहीं जाता.....
_______________________________________________

ज़माने को क्यूं बताऊं क्या हो तुम मेरे लिए..
तुम्हें खामोशी से चाहना मुझे अच्छा लगता है।
_______________________________________________

तुम चाहती हो की तुमसे बिछड़ कर खुश रहूं,
यानी हवा भी चलती रहे और दिया भी जलता रहे..!!
_______________________________________________

नज़र वहीं हैं,
जो कत्ल को अंजाम दे,
और चाहत वहीं,
जो भरी महफ़िल में सलाम दे।
_______________________________________________

किताब के सादे पन्ने सी शख्सियत मेरी..
नजरंदाज कर देते हैं अक्सर पढ़ने वाले...।।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ